ऐ दिल तू सिर्फ उसके जाने से

ऐ दिल तू सिर्फ उसके जाने से क्यों रोता है !

अकेला नहीं तू ही सबके साथ यही तो होता है !!

मेरी धडकनों को बढाकर क्यूँ तू परेशां होता है !

गया जो दिल से उसे अब चाहने से क्या होता है !!

मजबूरी रही होगी उसकी कुछ वरना कौन बेवफा होता है !

समझा ले युही खुद को तू वरना बिन साँसे कौन सोता है !!  

मुहब्बत शायद अब नाम है वरना कौन किसी का होता है !

अभी वक़्त है संभल जा तू क्यूँ गुमनामी में जाकर खोता है !!

खुदा माना था उसे सो होता तो वही जो मंजूरे खुदा होता है !

गलती थी वो आसमां का रहने वाला धरती पे कहाँ होता है !!

©100rb

4 thoughts on “ऐ दिल तू सिर्फ उसके जाने से

  1. Madhusudan says:

    मजबूरी रही होगी उसकी कुछ वरना कौन बेवफा होता है !

    समझा ले युही खुद को तू वरना बिन साँसे कौन सोता है ..जबर्दस्त👌👌👌👌

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s