हर बरखा 2 पेड़ लगाएगा !

मेरे अजीज पाठक मित्रो कैसे हो आप सभी , आशा करता हूँ आप सभी कुशल मंगल होंगे ! ये कविता मेरे प्रकृति  प्रेम को समर्पित है! इसकी विषय वस्तु भी वैश्विक है ! ये एक सन्देश है पर्यावरण सुधार के लिए , एक अपील है बस सभी से की इसे आप पढ़ें, खुद भी अपनाएं व लाइक करने के साथ इसे व्यक्तिगत रचना की तरह न देखे अपितु इस सन्देश को फैलाने में शेयर करके मुझे सहयोग दें !एक साँझा सहयोग पूरी धरा को समर्पित ………

बरखा की फुहारों ने खूब समां बना दिया !

सूखी जमीं को अपने स्पर्श से लहला दिया !!

जो झुलस रहे थे पंछी आसमां में कही !

उन सबका भी जीवन इसने बचा दिया !!

बरस के रिमझिम माटी को महका दिया !

बच्चे बूढ़े जवान सबको ही तो चहका दिया !!

देर से सही पर ये तो खुशिया देने आ ही गयी !

ऐ इंसा तू कब आएगा कब इससे रिश्ता निभाएगा !!

कब अपनी माँ जमीं के लिए तू  कुछ कर पायेगा !

ये प्राण वायु तुझे देती है तू क्या देना इसे चाहेगा !!

बस इतना सा तू कर ले हर बरखा 2 पेड़ लगाएगा !

पालेगा पोसेगा उन्हें और इस धरा पे स्वर्ग बनाएगा !!

खुद जीएगा शुद्ध हवा में शुद्ध वातावरण आगे दे जायेगा !

आओ इसी बरखा का जल लेकर शुद्ध कसम खाते है !!

हम सब वृक्षारोपण कर धरती को शुद्ध बनाते हैं !!!!

©100rb

 

One thought on “हर बरखा 2 पेड़ लगाएगा !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s