ek din bahut pachhtayega!

एक दिन बहुत पछतायेगा !

हमें छोड़ कर जाने वाले !

एक दिन बहुत पछतायेगा !!

गलती का अहसास भी तेरा !

दिल खुद ही तुझे कराएगा !! 

अभी जा एक  दिन तू भी !

प्यार के लिए तरस जाएगा !!

तू खुद ब खुद लौट के आएगा !

जिस दिन लौट के आएगा !!

मुहब्बत तो तुझे पूरी दिखेगी !

पर हमें कहीं कभी ना पायेगा !!

तब शर्तिया तू प्यार को !

ठीक से समझ पायेगा !!

मेरा दर्द भी तुम्हें करीब से !

समझ आ जायेगा !!

पर बहुत देर हो चुकी होगी तब !

तू खाली हाथ सिर्फ पछतायेगा !!

सूचनार्थ: दिल के अहसासों को दिल से ही जियो ! उपरोक्त कविता में “हमें कहीं कभी ना पाओगे” का अर्थ सिर्फ अहसास परिवर्तन है ! कभी भी आत्महत्या जैसी कायरता पूर्ण किसी भावना को अपने दिल में जगह ना दें !

©100rb

2 thoughts on “ek din bahut pachhtayega!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s