udas rahta hai..

दिल मेरा बेहिसाब खामोश रहता है ! मगर मुझसे ये  कहाँ  चुप  रहता है !! अक्सर चीखती  है  खामोशियां मेरी ! बस आँखों से सैलाब बहता रहता है !! ऐ दिल दुनिया को  जब  कदर  नही ! फिर तू किसके लिए बेजुबां रहता है !! तेरे पास खुले  हुए  है  तमाम  रास्ते ! तू  क्यू  … Continue reading udas rahta hai..