Love with my Pen!

मुहब्बत कलम से ! हम तो कलम से मुहब्बत, कर बैठे तुमसे जुदा होकर ! ये ताकत भी  तुम्हीं ने तो, अदा फरमाई है बेवफा होकर ! तुम्ही ने तो ये हुनर सिखाया है, बस फर्क सिर्फ इतना आया है ! कल लिखते थे तेरे लिए तेरे होकर, आज तेरी वजह से तनहा होकर ! … Continue reading Love with my Pen!

मुझे चुप रहना है !

helloo to all , some pieces of my heart.........n hurtings. ख़ामोशी भले ही मेरी जान ले ले बस अपनी मुहब्बत की खातिर मुझे चुप रहना है ! अहसासों को घोट कर अपने ही भीतर मुझे कभी ना किसी से कुछ कहना है मुझे चुप रहना है  ! दर्द संभाले नहीं संभलता अब मुझ से बिना … Continue reading मुझे चुप रहना है !

क्यूँ दिल अपना लगा बैठे

हम एक बेवफा से जाने क्यूँ दिल अपना लगा बैठे, उसकी चाहत के लिए हम तो अपनी जिन्दगी भी गवां बैठे. दिल का टूटना सुना तो था पर हम तो दुनियां ही जला बैठे, उसे यकीं नहीं आया फिर भी कभी पर हम तो जान भी लुटा बैठे.  अच्छी खासी थी जिन्दगी कभी पर हम … Continue reading क्यूँ दिल अपना लगा बैठे