Oh my bro!ओ मेरे भैया!

ओ मेरे भैया इस राखी तुमसे कुछ कहना है ! मुझे कभी ना  तुमसे नाराज रहना है !! मैं रूठ जाती हूँ तो तुम मुझे मनाया करो ! पास बैठ के मुझे मेरी गलती समझाया करो !! एक दिन इस आँगन से दूर चली जाऊंगी ! फिर ना कभी यहाँ लौट के ऐसे रह पाऊंगी … Continue reading Oh my bro!ओ मेरे भैया!

Advertisements

तुम ज़माने से नहीं तुमसे ये जमाना है !

I have written this poem to encourage one of  my friend. He has two girl children and he is happy with them. But people often make him realize the lack of son. so please read it and tell me your valuable thoughts about this......... बहुत ही ना समझ ये सारा जमाना है, इसने कब जिन्दगी … Continue reading तुम ज़माने से नहीं तुमसे ये जमाना है !