Love with my Pen!

मुहब्बत कलम से !

हम तो कलम से मुहब्बत,

कर बैठे तुमसे जुदा होकर !

ये ताकत भी  तुम्हीं ने तो,

अदा फरमाई है बेवफा होकर !

तुम्ही ने तो ये हुनर सिखाया है,

बस फर्क सिर्फ इतना आया है !

कल लिखते थे तेरे लिए तेरे होकर,

आज तेरी वजह से तनहा होकर !

जब दौर ऐ तड़प से गुजरते हैं,

बस हाथ थिरकने से लगते हैं !

अहसास को उतारने कागज पर,

बस कलम हम घिसने लगते हैं !

©100rb

12 thoughts on “Love with my Pen!

  1. Madhusudan says:

    हम तो कलम से मुहब्बत,
    कर बैठे तुमसे जुदा होकर !
    ये ताकत भी  तुम्हीं ने तो,
    अदा फरमाई है बेवफा होकर –क्या बात👌👌👌

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s